पीएम किसान सम्मान निधि योजना 2022 में बड़ा बदलाव किया गया है।

नियमों में बदलाव का असर उन किसानों पर पड़ेगा जो कि मृतक किसान के वारिस हैं और पीएम किसान सम्मान निधि योजना का लाभ पाना चाहते हैं।

ऐसे किसानों को किसान सम्मान निधि का लाभ पाने के लिए नए सिरे से आवेदन करना होगा।

ये होगी नए नियम के अनुसार प्रकिया

उत्‍तराधिकार के मामलों में नामांतरण के लिए वारिस को राजस्‍व निरीक्षक की रिपोर्ट प्रस्‍तुत करनी होगी।

रिपोर्ट में मामला विवादग्रस्‍त नहीं होना चाहिए। इसके अलावा उत्तराधिकारी का खतौनी में अभिलिखित अभिलेख होना चाहिए।

कृषि विभाग के अधिकारियों को उनके कार्य क्षेत्र का विवरण निर्धारित करना होगा।

मृतक लाभार्थी के आश्रित को मृत्‍यु की सूचना देने के साथ यह भी बताना होगा कि वो क्यों इस योजना के पात्र बनना चाह रहे हैे।

इसके बाद वारिसों को पीएम किसान के लाभार्थी के रूप में चिन्हित किया जाएगा।

इतना ही नहीं सूचना प्राप्‍त होने पर मृतक लाभार्थी का जिला स्‍तर पर ही स्‍टॉप पेमेंट संबंधित उप निदेशक, कार्यालय द्वारा किया जाएगा एवं उस प्रकरण का विवरण साक्ष्‍य सहित निदेशालय को भेजना होगा।

योजना से जुडी जानकारी के लिए नीचे दी गई लिंक पर क्लिक करें