मुख्यमंत्री अनुप्रति कोचिंग योजना के तहत विद्यार्थियों का चयन 12वीं और दसवीं कक्षा में मिले अंकों के आधार पर होगा।

इसके साथ ही विभाग के माध्यम से हर एक जिले का लक्ष्य निर्धारित होगा।

इस लक्ष्य के द्वारा विद्यार्थियों के मेरिट पर चयनित संस्थानों में विद्यार्थियों की कोचिंग की व्यवस्था होगी।

राज्य सरकार द्वारा इस योजना के लाभार्थियों में  कम से कम 50% संख्या छात्राओं की होगी।

मुख्यमंत्री अनुप्रति कोचिंग योजना के तहत संचालन एसटी वर्ग के लिए जनजाति क्षेत्रीय विकास विभाग के माध्यम से होगा

और एससी, ओबीसी, एमबीसी और ईडब्ल्यूएस वर्ग के लिए सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता विभाग के द्वारा होगा

और साथ अल्पसंख्यक वर्ग के लिए इस योजना का संचालन अल्पसंख्यक मामलात विभाग द्वारा होगा।